राम बनना सरल है निभाना कठिन
Ram Banna Saral hai Nibhana Kathin's image
Poetry1 min read

राम बनना सरल है निभाना कठिन Ram Banna Saral hai Nibhana Kathin

Manoj Kumar MishraManoj Kumar Mishra May 29, 2022
Share0 Bookmarks 163 Reads0 Likes
राम बनना सरल है निभाना कठिन
राम का मर्म चख कर बताना कठिन

अपनी खुशियों को जग पे निछावर किये
जो पिता के वचन को धर्म मान ले
सारे कष्टों को हँस-हँस के सहता रहे
जो सेवा ही अपना कर्म मान ले
हँसते हँसते वचन को निभाना कठिन
राम बनना सरल है निभाना कठिन

ऐसे भाई का प्रेम कहां अब मिलेगा
जो भाई को माता-पिता मान ले
पादुका भाई की अपने सर पर रखें
जो भाई पर तन-मन सभी वार दे
भाई का भाई पर सब लुटाना कठिन
राम बनना सरल है निभाना कठिन
          **********************
                 मनोज मिश्र 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts