पर्दादारी's image
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes
गुस्ताख नज़र
बेचैन जिगर
लबों पे हंसी
आँखों में नमी 

किस राज़ की
पर्दादारी है ये
किस बात का ये
हो रहा असर ।
   
       मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts