आशाएँ's image
Share0 Bookmarks 19 Reads1 Likes
आशाएं रखनी न थीं
उम्मीदें पालनी न थीं
निराशाएँ जब पनपीं
हौसले धुआँ हो गए
आँखों के रास्ते बहकर
ख्वाब पानी हो गए।

    मं शर्मा (रज़ा)


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts