ज़ख़्म's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes

हर ज़ख्म पर

एक ही मरहम नहीं चलता

जख्म भरते नहीं

हमेशा तरस खाने से ।


मं शर्मा(रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts