सुध's image
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

मोय सुध रही न तन की

ना ही घर-बार की रही

मन मोर बन के नाचा

जबसे तुमसे लगन लगी ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts