सौभाग्य's image
Share0 Bookmarks 4 Reads0 Likes

तुमको चाहना तुमको पाना

दो अलग बातें थीं

एक मेरे बस में और

दूसरी पर वश न था


तुम से मिलना ख्वाब था

जो अधूरा ही रहा

भाग्य पर भरोसा न किया

ये मेरा सौभाग्य रहा।


म शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts