रेला's image
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes

अलग अलग विचारों वाला

अलग अलग व्यवहारों वाला

एक चलता फिरता मेला है 

दुनिया एक भीड़ का रेला है 


घर खोवे सुख -चैन खोवे 

खुद को खोने का खतरा है 

चार दिन के इस मेले में 

एकदिन चैन से न गुज़रा है ।


मं शर्मा( रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts