प्रेम's image
Share0 Bookmarks 26 Reads1 Likes

प्रेम अत्यंत गहन विषय है

शब्दों में परिभाषित न हो पाएगा

ये तेरे मेरे बीच की बात नहीं जो

प्रेम पत्रों में सिमट के रह जाएगा।


मं शर्मा ( रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts