पिंजरा's image
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes

माना पिंजरे में नहीं पंछी

नज़रों की कैद में तो है

बेकरारी कह रही उसकी

परिंदा आज़ाद नहीं है ।



 मं शर्म(रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts