नादान's image
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

नादान इतना भी नहीं

बातों में आ जाऊँ

वो तो ज़माना ही

मुझे कम आंकता है


मुझको खबर है कैसे

चलता है कारोबार यहाँ

दिखा के ख्वाब तू भी

सिर्फ दर्द तोलता है ।



मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts