कृतार्थ's image
0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

चूम लूँ इस धरा को

जिसमें मैंने जन्म लिया

मातृभूमि के प्राश्रय में

जीवन मेरा संवर गया


कृतार्थ रहूँगा जीवनभर

तेरे सब उपकारों का

मुझको भी एक आदत है

सबके अहसान चुकाने की ।


मं शर्मा( रज़ा)

#स्वरचित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts