किनारे किनारे's image
OtherPoetry1 min read

किनारे किनारे

Manju SharmaManju Sharma September 30, 2022
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes

किनारे किनारे चले जा रहे थे

यादों में खुद को दोहरा रहे थे

लहरों ने आकर झकझोर दिया

शर्म से पानी पानी हुए जा रहे थे ।


मं शर्मा( रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts