किनारा's image
Share0 Bookmarks 7 Reads0 Likes

मैं उच्छृंखल बलखाती नदिया

तुम हो धीर गंभीर किनारा

तेरी बाँहों तक सीमित है

जीवन का विस्तार हमारा ।


मं शर्मा (रज़ा)

#स्वरचित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts