खुशबू's image
Share0 Bookmarks 13 Reads0 Likes

खुशबू को ढूँढता है

सेहरा के गाँव में

फूल खिलते नहीं

दर्द की छाँव में


आँसुओं की नमी में

दर्द पनपता है

पार उतरा न कोई

उमड़े सैलाब में।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts