केश's image
Share0 Bookmarks 11 Reads0 Likes

सावन की काली घटाओं से

कजरारे तेरे केश प्रिये

कांधे पर तेरे यूँ बिखरे हैं

ज्यों लहराते हुए सर्प प्रिये ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts