कसक's image
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

काँटों की चुभन का अंदाजा था

यादें भी कसकती हैं मालूम न था

उसके जाने के बाद अहसास हुआ

यादों से तो वो कभी गया न था।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts