काँच's image
Share0 Bookmarks 17 Reads0 Likes

पत्थर नहीं था मैं

जो सह लेता

शीशे सा था दिल मेरा

काँच काँच हो गया ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts