ज्योति's image
Share0 Bookmarks 22 Reads0 Likes

मुश्किलें कितनी भी आएं

हौसले चाहे पस्त हो जाएं

अंधेरा कितना भी गहराए

आस की ज्योति न बुझने पाए।


मं शर्मा( रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts