गुनहगार's image
Share0 Bookmarks 22 Reads0 Likes

गुनहगार को हर गुनाह की

सज़ा देने की बात न कर

सज़ा देना भी खता है

खता करने की खता न कर


राहतों की बात कर

इनायतों की बात कर

मैं बंदग़ी में मशगूल हूँ

तू बख्शने की बात कर ।



मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts