दहलीज़'s image
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

इंतज़ार बैठा है दहलीज़ पर

आँखे बिछाए

न जाने कब जिंदगी से

मुलाकात हो जाए ।


मं शर्मा (रज़ा)


#स्वरचित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts