चिराग's image
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes

हम यादों के चिराग जलाये

तेरी लगन के उजाले में बैठे हैं

आना न आना तेरी मर्ज़ी कान्हा

हम तो जीवन निसार बैठे हैं ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts