बतंगड़'s image
Share0 Bookmarks 15 Reads0 Likes

बात का बतंगड़ न बना

पैमाइश में मुश्किल होगी

ग़म न कर मैं अभी बाकी हूँ

फिर कभी जुर्रत होगी ।



मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts