आँसू's image
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes

आँखों की गहरी झील

कभी सूखी न थी

दर्द ने डुबकी लगाना

छोड़ दिया था


नमी थी पलकों पर

आँसुओं की लेकिन

वजह बेवजह छलकाना

छोड़ दिया था ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts