मत मांगो अधिकार (व्यंग्य)'s image
Poetry1 min read

मत मांगो अधिकार (व्यंग्य)

मणि श्रीवास्तव ' माहा 'मणि श्रीवास्तव ' माहा ' January 13, 2023
Share0 Bookmarks 23 Reads1 Likes

सब लोगों को खुश रखने का

यही एक उपचार

फर्ज़ निभाओ अपने सारे

मत मांगो अधिकार


ऐसा वैसा सबका सोचो

बिना कोई आधार

और भूलकर गलती से भी

मत मांगो अधिकार


जीवन के सब मूल्य त्याग कर

झुक जाओ हर बार

दोष समूचा सिर अपने लो

मत मांगो अधिकार


माफ़ गलतियां सारी कर दो

जैसा हो व्यवहार

स्व - गलती पर क्षमा मांग लो

मत मांगो अधिकार


अगर चाहते हो तुम जग में

बड़ा कहे संसार

मंत्र यही तुम आत्मसात लो

मत मांगो अधिकार


~ मणि श्रीवास्तव ' माहा '


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts