तेरी मदहोश निगाहों का वो असर देखा's image
1 min read

तेरी मदहोश निगाहों का वो असर देखा

Malvika HariomMalvika Hariom June 16, 2020
Share0 Bookmarks 148 Reads1 Likes

तेरी मदहोश निगाहों का वो असर देखा 

दिल के सहरा में मचलता हुआ सागर देखा 


खिला नज़र में माहताब तेरी चाहत का 

हर गली-कूचा रोशनाई का मंज़र देखा 


कैसे मैं उनमें सनम इल्मे तसव्वुफ़ भर लूँ

जिन निगाहों ने तेरा ख्व़ाब हर पहर देखा 


तुझको पाकर भी तमन्ना है तुझे पाने की 

बारहा ऐसी तमन्ना को दर-बदर देखा


तेरी बातें ज्यों लरज़ती हुई ग़ज़ल गोया 

चंद लफ़्ज़ों में मुक़म्मल नया बहर देखा 


मैंने दरपेश मामला जो मुहब्बत का किया 

मेरे मुंसिफ़ ने मुसल्सल इधर-उधर देखा 


हमको मंज़िल की ताब रास कहाँ आती है 

हाथ थामा जो तेरा दूर तक सफ़र देखा 


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts