तज़र्बा's image
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

# कहता है तू अकसर।

  है तू मेरे पास यहीँ कहीं।।

# निभाने का तो बहुत है मग़र।

 धोखे का मेरे पास तज़र्बा नहीं।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts