तनख़्वाह's image
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes

#इस कमाई से जिंदगी।

 अब बसर नहीं होती।।

#बेदख़ल तेरी तमन्नाएं।

 भी शायद पूरी होती।।

#गर ये तनख़्वाह वाली।

 तारीख़ महीने मे दो बार होती।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts