शुमारी's image
Share0 Bookmarks 23 Reads0 Likes

#ख़ुद को ही अब सज़ा देने लगा हूँ।

पीनी छोड़ी जबसे बीमार रहने लगा हूँ।  


#पीना अब वर्ज़िश मे नहीं शामिल।

  नशा अब औऱ है लिखने लगा हूँ।


#शुमारी अब होने लगी बेदख़ल।

 भीड़ मे मै भी अब दिखने लगा हूँ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts