क़िस्मत's image
Share0 Bookmarks 57 Reads1 Likes

#क़िस्मत आज़माती रही

 ख़ुद को आजमाता रहा।

#उम्र ढलती रही और

  वक़्त गुज़रता रहा।

#नज़रों का नज़रिया था

&nb

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts