क़लम's image
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes

#अंदर भरा बारूद निकालना है।

लिख के अपना गुस्सा निकालना है।।

#दफ़्न है जमीं मे कबसे बेदख़ल।।

अपनी कब्र से खुदको जिंदा निकालना है।।

#बहुत हुए अब पन्ने काले।

क़लम से अब लहू निकालना है।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts