कर्ज़ा's image
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes

#सोचता हूँ तो सोच हार जाती है।

  जब सोचता हूँ अब तुम नहीं हो।।


#पहले अक़्सर आ जाया करती थी।

 अब ख़्वाबों मे भी नहीं आती हो।।


#कर्ज़ा थी या एहसान या दोनों।

 दोनों सूरतों मे उतारी जाती हो।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts