हँस लेता हूँ's image
Poetry1 min read

हँस लेता हूँ

mail.sunil3sharmamail.sunil3sharma April 8, 2022
Share0 Bookmarks 35 Reads0 Likes

#घिरता हूँ ग़मों से

 तो हँस लेता हूँ।।

#जब हँसी नहीं आती

 तो कुछ लिख लेता हूँ।।

#क़लम भी बोर हुई मुझसे

 उसको उंगली मे दबोच लेता हूँ।।

#अब कहाँ रखूँ इन्हें लिख कर

 बस पड़ कर आँखें बंद कर लेता हूँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts