गांव वापस चला जाए।'s image
Poetry1 min read

गांव वापस चला जाए।

mail.sunil3sharmamail.sunil3sharma July 3, 2022
Share1 Bookmarks 28 Reads1 Likes

#शायद गया वक़्त लौट आए।

अपने घर, गांव वापस चला जाए।।

#शायद छुटपन का कोई दोस्त मिल जाए।

फिर से पिठ्ठू कंचे लट्टू खेला जाए।।

# पापा की बस आवाज़ सुन जाए।

डांट लग जाये सिर्फ़ आंख दिख जाए।।

अपने घर, गांव वापस चला जाए।।

# बाद इसके माँ की आड़ मिल जाये।

  औऱ उसका दुलार, गोद मिल जाए।।

#इंतजार है किसी का फ़ोन आ जाए।

इकठ्ठे हो जाएं रसोई फिर एक हो जाए।।

अपने घर, गांव वापस चला जाए।।

# दोस्त बचपन ही ठीक था वापस आ जाए।

अय्यारी समझदारी अच्छी नहीं कि सब छूट जाए।।

अपने घर, गांव वापस चला जाए।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts