भूल जाता हूँ मै's image
Poetry1 min read

भूल जाता हूँ मै

mail.sunil3sharmamail.sunil3sharma May 11, 2022
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes

#नहीं मिल रहे चश्मा और क़लम

  रख के कहीं भूल जाता हूँ मै।

#अक्सर आवाज़ आती है यूँही

  घर मे कोई है भूल जाता हूँ मै।

#पुकारते रहते हैं बेदख़ल

 अपना नाम ही भूल जाता हूँ मै।

#...................हाँ तो मै कहाँ था

बता दो कहा था न भूल जाता हूँ मै।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts