बेगुनाह's image
Share0 Bookmarks 39 Reads0 Likes

#पहले ऐसा न था पर कब क्यूँ है।

क़त्ल सामने हुआ सब ख़ामोश क्यूँ हैं।।

#सब ज़ाहिर है मग़र अनजान क्यूँ हैं।

गुनहगार बेगुनाह, बेगुनाह गुनहगार क्यूँ है।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts