बेदख़ल चाहिए's image
Poetry1 min read

बेदख़ल चाहिए

mail.sunil3sharmamail.sunil3sharma May 11, 2022
Share0 Bookmarks 7 Reads0 Likes

#कम हैं साँसे थोड़ी और चाहिए

 होगा पूरा शेर थोड़ा वक़्त चाहिए।


#निगाहें अभी किसी ढूंढ मे हैं

  समक्ष आम नहीं ख़ास चाहिए।


#क्या किसी साथ सहारे ही कटेगी 

 आँखों मे आँख हाथों मे हाथ चाहिए।


#बोलती बंद है सबकी बेदख़ल

 लिख़ने के लिए जुबां नहीं हाथ चाहिए।


#लिखना सब के बस की बात नहीं

कोई बेदख़ल या सिर्फ़ बेदख़ल चाहिए।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts