हम ख़ुद...!!'s image
Share0 Bookmarks 59 Reads0 Likes

             हम खुद को ना समझ पाने की सजा पाते हैं,
             कुछ ख्वाब है जिने आंखों में सजाते जाते हैं।

                हमसफर के लिखे हुए मोहब्बत के गीत,
                 तन्हाई में तन्हा बैठ कर गुनगुनाते है।

                 कुछ अंदाज पसंद नहीं लोगों को हमारे,
                फ़ुरसत मिलने पर हम खुद को तराशते है।

                जिंदगी अब भी इस भ्रम में कट रही है,
                  ये कैसे लोग है हर ग़म में मुस्कुराते है।

                  हर पल नया इंसान मिलेगा उन में से,
                  अक्सर वो खुद को खुद से मिलाते है।

                  मैने सबब मांगा दशको की बगावत का,
                    वो हस कर मोहब्बत क्यों दिखाते है।
                       
                                                              ~महिपाल राव

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts