इतनी रुसवाईयों से विदा न कर मुझे...'s image
Zyada Poetry ContestPoetry1 min read

इतनी रुसवाईयों से विदा न कर मुझे...

AnkswritesAnkswrites April 29, 2022
Share0 Bookmarks 60 Reads0 Likes

इतनी रुसवाईयों से विदा न कर मुझे

मैं तो तेरा हूं ख़ुद से जुदा न कर मुझे


सिर्फ़ उस का हो कर ही जीना हैं मुझे

ख़ुदा किसी और पे फ़िदा न कर मुझे


हमको मालूम हैं अपनी अंजाम ए उल्फ़त

ये कभी न बिछड़ने की वादा न कर मुझे 


जब मिलो हम से तो बिछड़ने की बात न करो

हर मुलाक़ात की अंत में गम़दीदा न कर मुझे


मैं भी तो तेरा ही एक हिस्सा हूं ' अंकित '

दूर होके जीने की दुआ अदा न कर मुझे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts