कवि एक मन एक's image
Share0 Bookmarks 162 Reads0 Likes
   कवि एक मन एक..                                   भावनाएँ अनेक..                                       कभी आसमानी नीला में ..                         विलीन होने वाली उड़ान..                           कभी बरसात के मौसम सा..                       गरजता-बरसता बादल..                             कभी निच्छल रूंप में..                               बहती नदी...                                             कभी समुद्र की..                                       उफनती लहर सा हृदय..                             कभी बेल की तरह..                                   हरा में लिपटा शरीर..                                 कभी उषा की लालीमा में..                         रंगी चादर..                                               कभी  प्यासा चातक ...                               कभी विरही पपीहा..                                 और कभी जातिंगा * में                               जल  जाने को मन है बावरा ...                     कवि एक मन एक..                                   भावनाएँ अनेक  //                                                           _ज्योति रूपा                   (Jatinga@google search)                      

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts