“आख़िरी पैग़ाम”'s image
Poetry2 min read

“आख़िरी पैग़ाम”

Lalit SarswatLalit Sarswat November 23, 2022
Share0 Bookmarks 28 Reads0 Likes

आख़िरी पैग़ाम


वक़्त के सितम से अब बिख़र रहा हूँ,

जिन धड़कनों पर तेरा नाम लिखा था

आज उन साँसों से मैं बिछड़ रहा हूँ,

लहू का हर कतरा तेरे नाम किया था

उस लहू से आख़िरी पैग़ाम लिख रहा हूँ। 


मौसम जो दिए तूने सिर्फ़ दर्द भरे मुझे

उनसे बारिश की उम्मीद क्यूँ कर रहा हूँ,

गुलिस्ताँ मेरे नसीब में था नहीं कभी

बस काँटों की सेज़ पर तड़प रहा हूँ,

वक़्त के सितम से अब बिख़र रहा हूँ।


कभी सपनों में तूने जगह दी तो नहीं

हर सपना तुझ पर कुरबान कर रहा हूँ,

मासूम दिल को कभी क़ुबूल किया नहीं

उस दिल को संदूक में बंध कर रहा हूँ,

वक़्त के सितम से अब बिख़र रहा हूँ।


कर नहीं सकता डोली को रुख़सत तेरी

ख़ुद के जनाज़े को रवां कर रहा हूँ,

सेहरा प्यासा रहा ताउम्र तेरे इश्क़ का

उसे आज समंदर में तब्दील कर रहा हूँ,

वक़्त के सितम से अब बिख़र रहा हूँ।


किनारे जो कभी मिलने थे ही नहीं

उन किनारों को अश्क़ों में डुबो रहा हूँ,

बिन तेरे जन्नत का मैं क्या करूँगा

सनम जन्नत आज तेरे नाम कर रहा हूँ,

वक़्त के सितम से अब बिख़र रहा हूँ।


तेरे उस इश्क़ को ख़ुदा माना था मैंने

उस इश्क़ को अलविदा कह रहा हूँ,

वादा किया था उम्र भर साथ निभाने का

उस वादे को आज दफ़्न कर रहा हूँ,

वक़्त के सितम से अब बिख़र रहा हूँ।



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts