दिमाग से अपाहिज बनाए जा रहे है's image
Love PoetryPoetry1 min read

दिमाग से अपाहिज बनाए जा रहे है

LALBAHADURLALBAHADUR January 23, 2022
Share0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

*शिक्षा के झाझ को बड़े शौक से डुबाए जा रहे है,*

*स्कूल को बंद करके रैलियों में बुलाए जा रहे हैं,*

*फ्री का राशन कब तक खाएगा मूर्ख प्राणी,*

*तेरे बच्चे को जिश्म से नहीं,*

*दिमाग से अपाहिज बनाए जा रहे है* ।।

✍️✍️✍️राइटर एल.बी. यादव✍️✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts