कविता's image
Share0 Bookmarks 70 Reads0 Likes
 मूक बोल सकतें , 
    बधिर सुन सकतें , 
            नेत्रविहीन देख सकतें , 
                      हाँ सच कह रही हूँ 
                                हर असंभव को संभव 
                                     बनाने का काम करती कविता
       
                                                          ~       लक्ष्मी
  
  

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts