Shayri's image
Share0 Bookmarks 49 Reads0 Likes

दिहाड़ी मजदूर किस्मत से लाचार था,

काम करे कहाँ बंद जो सारा बाजार था।

~कुसुम बाहेती

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts