अभी भी इंसानियत जिंदा, बिदाई के बाद पहली बार एक पिता को मैने यह कहकर हंसते देखा..'s image
Zyada Poetry ContestPoetry1 min read

अभी भी इंसानियत जिंदा, बिदाई के बाद पहली बार एक पिता को मैने यह कहकर हंसते देखा..

Kunvar Shekhar GuptaKunvar Shekhar Gupta April 26, 2022
Share0 Bookmarks 81 Reads0 Likes

अथाह दहेज देने के बाद सारे विवाह में

कन्यादान के उपरान्त हर पिता को मैंने रोते देखा।

एक विवाह में बेटी के ससुराल से अथाह प्यार पाकर

"अभी भी इंसानियत जिंदा है"

यह कहते हुये एक पिता को मैंने खुश होते देखा।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts