ख़ुदा से दुआ's image
Share1 Bookmarks 17 Reads2 Likes

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा

रखना लगा के सीने से मोहम्मद की दवा

ये वो मरती हुई सांसे थी जिन्हें दम है मिला

बना के आक्सीजन खुदा ने भेजी है दावा

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा



टूटता ही जा रहा है लोगो का भ्रम

होती जा रही है हर तरफ़ जहन्नम ही जहन्नम

हर तरफ़ है सिर्फ़ मौतों का पहरा

भुला दो सब नफरतों को और कर लो तौबा

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा



या खुदा एक नज़र डाल के हालात को बेहतर कर दे 

तू जो चाहे तो सभी को शिफ़ा अता कर दे

हो गए हैं हम सब बेबस दे अपने दर की दवा

एक नजर डाल के ख़त्म कर दे ये सारी की सारी वबा

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा




हम सब की है गलतियां जो तुझे समझा ही नहीं

तेरे बनाए रास्ते पर हम सब चले ही नहीं

आज जब घिरे बलाओं से तब तू याद आया

या खुदा दे शिफ़ा हम सब को यही है दुआ

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा




हर तरफ़ जनाजे ही जनाजे नजर आती हैं

हर तरफ़ से सांसे टूटने की खबर आती हैं

अहले दुनिया ने समझा ही नहीं या खुदा

हम गुनाह गारों को कुछ तो शिफ़ा दे या खुदा

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा




अब कुछ तो रहम की एक नज़र डाल दें

हम सब के लिए तो कोई नशिर -ए -सिम्त निकाल दे

टूटते जा रहे हैं सभी शाखो से पत्तो की तरह यहां

अब तू ही बता हम सब तेरे दर से उठ कर जाए कहां

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा



देखा ही नहीं जाता ये जनाज़ों की कतारें

ये जो जल रही है लाशों की उठती हुई चिंगारे 

सूखता ही जा रहा है आंसुओ का ये काफिला

अब तू ही खुदा बता कितना रखे लोगो के बीच में फासला

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा




हम ढूंढे कहां अपनों को इस लोगो के बीच में

कोई शिनाख्त ही नहीं बचा हैं इन जनाज़ों के बीच में

अब तो कोई रास्ता ही नहीं बचा है तेरे दर के सिवा

या अल्लाह कोई सुनता भी नहीं है तेरे सिवा


आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा

आई है शिफ़ा बन के मदीने की हवा..

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts