अहंकार's image
Share0 Bookmarks 63 Reads1 Likes

जब मनुष्य असंतुष्टता से बिलखता है,

तब–तब उसमें अहंकार पनपता है।

आज उसके अभिमान को निराश कर दूं,

मैं उस अहंकार का नाश कर दूं।


जिसने दुसरो के हृदय को ठेस दे कर,

अपना सम्मान बढ़ाया, दुसरो का झुकाया शिखर।

उसके अतिविश्वास को अविश्वास कर दूं,

मैं उस अहंकार का नाश कर दूं।


मित्रों में भी भर गया है अकड़ का घड़ा,

वह भी मौका पाने पर मुझपर टूट पड़ा।

आज उसको मैं हताश कर दूं,

मैं उस अहंकार का नाश कर दूं।


इतना अहंकार जताकर, कमज़ोरी अपनी दिखाता जो।

दुसरो का मज़ाक उड़ा, अपना ही मज़ाक उड़ाता जो।

उसके अति–अभिमान का विनाश कर दूं,

मैं उस अहंकार का नाश कर दूं।


उसके मन में असंतोष, अहंकार सारे,

आज वें उसके मन से हारे।

आज मैं ऐसी आस कर दूं,

मैं उस अहंकार का नाश कर दूं।

                      

                    कृष्णा .क. प्रजापति 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts