उलझ जाती हूँ अक्सर's image
Romantic PoetryPoetry1 min read

उलझ जाती हूँ अक्सर

Kiran K.Kiran K. October 28, 2021
Share0 Bookmarks 9 Reads1 Likes
उलझ जाती हूँ अक्सर आईने से मैं तक़ाबुल में
जो ख़ुद को देखती हूँ,अक्स तेरा ही उभरता है

-किरण के.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts