ताक़-ए-आँख पर सजा रखें थे..'s image
Love PoetryPoetry1 min read

ताक़-ए-आँख पर सजा रखें थे..

Kiran K.Kiran K. October 28, 2021
Share0 Bookmarks 44 Reads1 Likes



ताक़-ए-आँख पर 

सजा रखें थे तुम्हारे ख़्वाब

आज ये आँसू बनकर

चश्म-ए-एहसास से

दामन में बिखर गए..

किसी खिलौने के टूटने पर

बचपन में रोती थी

ठीक उसी तरह ये दिल

पाँव पटककर रो रहा हैं..


-किरण के. ✍️




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts