रूमानी नवम्बर's image
Poetry1 min read

रूमानी नवम्बर

Kiran K.Kiran K. November 14, 2021
0 Bookmarks 45 Reads1 Likes
नवम्बर की रेशमी धूप
खिड़की से आकर
मेरे झुमके से छनती हुई
हर सू बिखर गई है
और ये बाद-ए-सबा
सर्द मौसम के आमद का
पैग़ाम लिए आई है
नवम्बर की भीगी सी महक
और इस गुलाबी ठंडी का
ये रूमानी नवम्बर...
बार बार मेरे दिल में
एक ही ख़्याल आता है
काश मेरे कैलेंडर में
बारह नवम्बर होते..!!

-किरण के.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts