ख़्याल-ए-वस्ल's image
Share0 Bookmarks 35 Reads1 Likes

बड़ी ग़मगीन थीं आँखे फ़िराक-ए-यार में लेकिन

ख़्याल-ए-वस्ल से फिर शाम रंगीं हो गई मेरी


-किरण के.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts